2020 प्रशांत भूषण अवमानना केस : SC में केंद्र ने फिर कहा- माफ कर दीजिए

उच्चतम न्यायालय में आज प्रशांत भूषण के 2020 आपराधिक अवमानना मामले की सुनवाई चल रही है। अदालत ने कहा कि वह केवल अपने आदेश के जरिए ही अपनी बात रख सकती है। अटॉर्नी जनरल ने अदालत से भूषण को माफी दिए जाने की अपील की। इससे पहले आज अदालत ने प्रशांत भूषण के 2009 अवमानना मामले में सुनवाई की। अब इसकी सुनवाई 10 सितंबर को नई पीठ करेगी।

सुनवाई करते हुए अदालत ने कहा, ‘इंसान को अपनी गलती का एहसास होना चाहिए, हमने भूषण को समय दिया, लेकिन उनका कहना है कि वह माफी नहीं मांगेंगे। प्रशांत भूषण को बोलने की स्वतंत्रता है, लेकिन उनका कहना है कि वह अवमानना के लिए माफी नहीं मांगेंगे।’

वहीं अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने न्यायालय से कहा कि अवमानना के लिए दोषी ठहराए गए वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण को माफी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अदालत को भूषण को चेतावनी देनी चाहिए और दयापूर्ण रुख अपनाना चाहिए। न्यायालय ने कहा कि अदालत केवल अपने आदेश के जरिए अपनी बात रख सकती है। अपने हलफनामे में भी प्रशांत भूषण ने अपमानजनक टिप्पणी की है।

शीर्ष अदालत की पीठ ने अटॉर्नी जनरल से पूछा, ‘प्रशांत भूषण ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ध्वस्त हो गया है, क्या यह आपत्तिजनक नहीं है।’ इसपर अटॉर्नी जनरल ने कहा, ‘प्रशांत भूषण खेद व्यक्त करेंगे।’

Leave a Comment