बेटियों के लिए जग जीतने का आज ऐतिहासिक मौका

आज महिला दिवस है और हमारे देश की बेटियां किसी से भी किसी मुकाबले में कम नहीं है। आज T-20 विश्व कप के फाइनल के लिए देश महिला क्रिकेट टीम को शुभकामनाएं दे रहा है। 11 साल की मेहनत आज रंग लाने वाली है। इस लंबे संघर्ष में इन महिलाओं ने कई मुश्किलों पर्वतों को लांघा हैं अब वे जंग जीतने को बस एक कदम और दूरी पर है, यह मैच मेलबर्न में खेला जाना है। आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर जीत का तोहफा देकर इतिहास रचने का दिन है हमें नाज है इन बेटियों पर क्योंकि अपनी पहचान बनाने के लिए महिला क्रिकेट टीम को बहुत बड़ा संघर्ष करना पड़, कई खिलाड़ियों के पास ना तो सुविधाएं थी और ना ही हौसला बढ़ाने वाले,  खेलने के लिए लड़कियां की टीम ना बन पाए तो कई  ने लड़कर लड़कों के साथ क्रिकेट खेला,  लेडीस सहवाग के नाम से मशहूर है 16 साल की शेफाली वर्मा,  यु तो अपने खेल से लड़कों को भी मात देती हैं पूनम को क्रिकेट की ऐसी जिद थी थी वह 8 साल की उम्र में ही अकेले घर से क्रिकेट खेलने निकल पड़ी थी,  मुंबई में झुग्गी में रहने वाली राधा के पास तो बैट खरीदने तक के पैसे नहीं थे लगभग सभी को आगे बढ़ने के लिए अपने विपरीत हालात का सामना करना पड़ा था।  किसी से कम नहीं है यह 15 खिलाड़ी है।

पंद्रह खिलाड़ियों वाली इस टीम की औसत उम्र मात्र 22 साल है पांच तो किशोर हैं 0-4 बार की विश्व चैंपियन आस्ट्रेलिया और अन्य टीमों को हराकर ग्रुप-ए में शीर्ष पर रही टीम स्मृति मंधाना शेफाली ने तो सचिन तेंदुलकर और कोहली के रिकॉर्ड को ध्वस्त किए हैं पूनम यादव 28 साल की हैं उन्होंने अंतरराष्ट्रीय T-20 में सातवी रैंक की गेंदबाजी और T-20 में एक टीम के खिलाफ सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड भी इनके पास है।शेफाली वर्मा 16 साल की शेफाली वर्मा T-20 में दुनिया के नंबर वन बल्लेबाज वनडे में सबसे तेज शतक लगाकर सचिन का रिकॉर्ड तोड़ा है।स्मृति मंधाना  23 साल की स्मृति मंधाना सबसे तेज 2000 वनडे रन पूरे कर विराट कोहली को पीछे छोड़ दिया,  T- 20 में 24 गेंदों में सबसे तेज अर्धशतक लगाने का रिकॉर्ड है। हरमनप्रीत कौर  30 साल की हरमनप्रीत कौर अंतरराष्ट्रीय T-20 में शतक जड़ा महिला पुरुष दोनों वर्गों में सबसे पहले 100 टी-20 खेलने वाली खिलाड़ी बनी। प्रधानमंत्री ने भी इन महिलाओं को शुभकामनाएं दी हैं।

Leave a Comment