क्यों कहीं स्मृति ईरानी ने कहा मैंने अपने जीवन में किसी की मरने का इतना बेसब्री से इंतजार नहीं किया

महिला एवं विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने इतनी बड़ी बात क्यों कहीं उन्होंने कहा, ‘मैंने अपने जीवन की किसी की मौत का इतना बेसब्री से इंतजार नहीं किया’ उन्होंने एक प्रोग्राम में कहा वह निर्भया के दोषियों को फांसी के फंदे पर देखना चाहती हैं जिस प्रोग्राम में स्मृति ईरानी ने यह बात बोली उस में निर्भया की मां आशा देवी और उनकी वकील सीमा कुशवाहा भी मौजूद थी। और स्मृति ईरानी ने बिना नाम लिए राहुल गांधी पर भी निशाना साधा, महिला सुरक्षा की शुरुआत घर से करनी होगी स्मृति ईरानी ने कहा मैंने अपने जीवन में किसी की मौत का इतना बेसब्री से इंतजार नहीं किया जितना कि दोषियों की फांसी का कर रही हूं।

हम महिला बालिकाओं के क्राइम पर जिला- जिला जाकर पुलिसिंग और बेटर जस्टिस दिलाने के लिए काम करेंगे। लेकिन हमें महिला सुरक्षा की शुरुआत घर से ही करना होगा क्योंकि अधिकतर महिलाओं पर हिंसा की शुरुआत घर से ही होती है घर पर जब बच्चा मां को पीटते हुए देखता है तो वह यह सोचता है की शायद औरतों से ऐसा ही व्यवहार किया जाना चाहिए। मैंने एक व्यक्ति नहीं परिवारवाद सोच को हराया अमेठी में जीत पर स्मृति ईरानी ने कहा मैंने किसी व्यक्ति को नहीं विषयक को हराया है मैंने परिवारवाद को हराया है मैंने उस सोच को हराया है जो सोने का चम्मच लेकर लोगों को अपने चरणों में रखती हैं।

महिलाएं भागीदार बने मोहरा नहीं महिलाओं के नेतृत्व पर उन्होंने कहा महिलाएं अगर आंदोलन में भागीदार बन कर खड़ी हो तो उसका पूरा समर्थन होना चाहिए लेकिन अगर महिलाएं मोहरा बनकर खड़ी हो तो हमें चिंता करने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *